You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

गुरुवार, 23 जून 2011

फिशरीज, बायोकेमिस्ट्री व सिनेमा कोर्स भी आरंभ करेगा कुमाऊं विवि





































यहाँ पर्यावरण  व  सामाजिक विज्ञान का अध्ययन करेंगे लीबिया के छात्र

नैनीताल (एसएनबी)। उच्च शिक्षा में गुणवत्ता व अनुशासन को प्राथमिकता देने के साथ ही देश के अग्रणी  विश्वविद्यालय बनने की राह पर आगे बढ़ रहे कुमाऊं विवि में लीबिया के विद्यार्थी पर्यावरण विज्ञान व सामाजिक विज्ञान पढ़ने के लिए आएंगे। विवि आगामी सत्र से पर्यावरण व इनरमैनेजमेंट तथा बीएससी स्तर पर फिशरीज साइंस, सिनेमा में डिप्लोमा, क्लिनिकल साइकोलॉजी, बायोकेमिस्ट्री, महिला अध्ययन केंद्र, इंस्टिटय़ूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन का उत्तराखंड चैप्टर, रीजनल सेंटर ऑफ इंटलेक्चुअल प्रापर्टी राइट तथा सूचना अधिकार व बौद्धिक संपदा से संबंधित डिप्लोमा पाठय़क्रम भी शुरू करने जा रहा है। बुधवार को विवि प्रशासनिक भवन स्थित सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में कुलपति प्रो. वीपीएस अरोड़ा ने यह घोषणा की। उन्होंने बताया कि गत दिवस मुख्यमंत्री ने उनकी मांग पर यूजीसी के 22 पदों पर नियुक्ति, संविदा कर्मियों के नियमितीकरण, शिक्षकों को यूजीसी के प्रावधानों के अनुसार छठे वेतनमान के अंतर्गत राज्य का 80 फीसद एरियर, अल्मोड़ा परिसर में योग विभाग के सृजन पर सैद्धांतिक सहमति देकर प्रस्ताव मांग लिया है। साथ ही पुस्तकालय हेतु 51 लाख रुपये देने की घोषणा भी की है। कुलपति ने बताया कि कुमाऊं विवि को बीएचएमएस डिग्री हेतु भारत सरकार से अनुमति मिल गई है। इसी कड़ी में रुद्रपुर के चंदोला होम्योपैथी कॉलेज में प्रवेश पर लगी रोक समाप्त हो गई है। वाषिर्क परीक्षाओं में आई 90 फीसद गलतियां ठीक कर ली गई हैं, साथ ही वाणिज्य वर्ग की सौ फीसद व विज्ञान की 90 फीसद कापियों का मूल्यांकन भी हो चुका है। उन्होंने भरोसा दिया कि 30 जून से पूर्व सभी अंतिम वर्ष के परिणाम जारी कर शैक्षिक कलेंडर के अनुसार आगामी चार जुलाई से नये सत्र में प्रवेश प्रारंभ हो जाएंगे। उन्होंने हल्द्वानी में एमबी महाविद्यालय में कुछ शिक्षकों द्वारा शोध विद्यार्थियों को ‘गाइड’ करने से मना करने को यूजीसी के दिशा-निर्देशों के विरुद्ध बताया। उन्होंने कहा कि जल्द ही विवि राष्ट्रीय ज्ञान आयोग के अंतर्गत नेट संयोजन से जुड़ जाएगा। पत्रकार वार्ता के दौरान नए पाठय़क्रम शुरू करने पर कुलसचिव डा. कमल के पांडे ने कुलपति की पहल सराहना की।

रविवार, 12 जून 2011

नैनीताल पालिका पर सीबीआई का शिंकजा


लेक ब्रिज ठेके का मामला नियमों को ताक पर रखकर दे दिया गया था ठेका, सीबीआई कर रही जांच
नैनीताल (एसएनबी)। नगर पालिका नैनीताल के विरुद्ध उत्तराखंड उच्च न्यायालय के आदेश पर सीबीआई की जांच प्रारंभ हो गई है। सीबीआई एवं पालिका से जुड़े अधिकारी इस बारे में मुंह खोलने को तैयार नहीं हैं और पालिका के अधिकारी अपना पक्ष मजबूत बता रहे हैं, किंतु सूत्रों पर विास किया जाए तो इस मामले में पालिका अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा बरती गई ‘लापरवाही’
पालिका की छीछालेदर कर सकती है। यहां तक कि कुछ अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई भी हो सकती है। ज्ञातव्य हो कि नगर पालिका द्वारा बीते वर्ष 2010-11 के लिये आमंत्रित लेक ब्रिज के ठेके के पहले चरण में रुड़की के नवबहार अली ने सर्वाधिक Rs2.1 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। बाद में ठेका दूसरे चरण में Rs1.51 करोड़ की बोली लगाने वाले निविदादाता के नाम आवंटित हो गया। इस बारे में अली का कहना था कि उन्हें पालिका द्वारा भेजा गया पत्र समय से नहीं मिला, जिस कारण वह समय पर नहीं पहुंच पाया और जब तक पहुंचा तब तक पालिका उसकी 10 लाख रुपये की धरोहर राशि जब्त कर नये सिरे से प्रक्रिया शुरू कर चुकी थी। इस पर पालिका के अधिकारी सफाई दे रहे हैं कि अली को प्रपत्र मिल गये थे वह समय पर ही पालिका की बैठक में आया और उसने ठेका लेने से इसलिये मना कर दिया कि पूर्व में ठेका काफी कम धनराशि का होने के कारण उसे यह घाटे का सौदा लगा था। इसकी वीडियो क्लिप भी उनके पास हैं किं तु इससे इतर पालिका की कार्यपण्राली पर जो सवाल उठ रहे हैं वह हैं कि अली को पालिका ने पहले 26 मार्च की शाम कोरियर से पत्र भेजा, जिसकी प्राप्ति साबित करने के लिये पालिका अधिकारी कोरियर कंपनी का प्रमाण पत्र हासिल कर लाए, जबकि उन्हें पत्र पहले ही नियमानुसार ‘भारतीय डाक’ से भेजना चाहिए था।अली ने यदि मना किया भी था तो पालिका ने दूसरी सबसे बड़ी करीब दो करोड़ की बोली लगाने वाले बोलीदाता को चुंगी के ठेके की पेशकश नहीं की। यहां तक कहा जा रहा है कि पालिका के अधिकारियों ने अली की जो एफडी जब्त की, वह वास्तव में किसी और के नाम की थी। तीसरे, जब नये सिरे से निविदा आमंत्रित की गई तब उसमें न्यूनतम सीमा का कोई उल्लेख नहीं था, जबकि पहले चरण में Rs1.85 करोड़ न्यूनतम सीमा बताई गई थी। बहरहाल, दो दिन की जांच में सीबीआई के तीन सदस्यीय दल ने पालिका के ईओ नीरज जोशी व कर अधीक्षक राजदेव जायसी सहित संबंधित कर्मचारियों से प्रपत्रों के आधार पर पूछताछ की है। कुछ को आगे की जांच के लिये देहरादून भी तलब किया गया है। आगे संभावना जताई जा रही है कि कई जांच टीमें आएंगी, जो अधिकारियों व कर्मचारियों की व्यक्तिगत छानबीन भी कर सकती हैं। 

शनिवार, 11 जून 2011

अब नयना देवी मंदिर भी होगा ऑनलाइन



मंदिर प्रबंधन ट्रस्ट ने टाटा कम्युनिकेशन को दिया जिम्मा घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से हो सकेंगे दर्शन
नवीन जोशी, नैनीताल। नैनीताल की मां नयना देवी भी वैष्णो देवी, शिरडी के साई बाबा, बर्फानी बाबा अमरनाथ तथा बाबा केदार व बद्रीनाथ की तरह ऑनलाइन होने जा रहीं हैं। मंदिर प्रबंधन अमर-उदय ट्रस्ट ने टाटा कंसलटेंसी को यह जिम्मेदारी सौंप दी है, जिसके बाद टाटा इसके लिए जरूरी उपकरण मंदिर परिसर में ले आया है, और अब इंस्टालेशन करने की तैयारी कर रहा है। इस कवायद के बाद क्लोज सर्किट कैमरे की मदद से मंदिर की गतिविधियां रिकार्ड होंगी, तथा उन्हें इंटरनेट के माध्यम से ‘ऑनलाइन’ किया जाएगा। गतिविधियों को एक चैनल पर ‘लाइव’ प्रसारित किये जाने की भी कोशिश चल रही है। 
बदलते परिवेश और समय की कमी के दौर में श्रद्धालु चाहते हुए भी मंदिर नहीं आ पाते। मंदिर में भीड़- भाड़ के कारण ठीक से दर्शन न होने तथा मंदिर में पंडों-पुजारियों के रवैये, अन्य असुविधाओं तथा मंदिर की दूरी के कई तत्व श्रद्धालुओं को मंदिर आने से रोकते हैं। इस समस्या का निदान है मंदिरों का ‘ऑनलाइन’ दर्शन। देश में कई चुनिंदा मंदिरों से ऐसी शुरूआत हो चुकी है, जिसमें अब सरोवरनगरी का पवित्र नयना देवी मंदिर भी शामिल होने जा रहा है। मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष वीरेंद्र नाथ शाह के हवाले से कोषाध्यक्ष जेपी साह ने बताया कि इसके लिए टाटा कम्युनिकेशन जरूरी उपकरण मंदिर परिसर में ला चुका है। उम्मीद जताई जा रही है कि इस कवायद से मंदिर को दुनिया भर में पहचान मिलेगी, और माता नयना पर आस्था रखने वाले दुनिया भर में मौजूद लोग मंदिर से जुड़े रहेंगे। उन्होंने बताया कि इंटरनेट के माध्यम से मंदिर की ‘लाइव एक्टिविटी’देखी जा सकेगी।
उल्लेखनीय है की अभी हाल ही में नयना देवी मंदिर 'ग्रीन' भी हो चूका है। मंदिर पवन ऊर्जा से प्राप्त 25 वाट के 50 सी एफ एल  बल्बों से जगमगा रहा है।
शक्तिपीठ है यह मंदिर
नैनीताल। नयना मंदिर को शक्तिपीठ की मान्यता दी जाती है। देवी भागवत के अनुसार भगवान शिव जब माता सती के दग्ध अंगों को आकाश मार्ग से कैलाश की ओर ले जा रहे थे, तभी मां की एक आंख यहां तथा दूसरी हिमाचल प्रदेश के नैना देवी में गिरी थी। यहां मां की आंख के ही आकार के नैना सरोवर के किनारे प्राचीन मंदिर की उपस्थिति बताई जाती है। 18 सितंबर 1880 को आए भूस्खलन में वर्तमान बोट हाउस क्लब के पास स्थित वह प्राचीन मंदिर जमींदोज हो गया था। उस मंदिर का विग्रह एवं कुछ अंश वर्तमान स्थान पर मिले, जिसके बाद नगर के संस्थापकों में शुमार नेपाल निवासी मोती राम शाह के पुत्र अमर नाथ शाह ने अंग्रेजों से एक समझौते के तहत यहां सवा एकड़ भूमि पर 1883 में मंदिर स्थापित किया था। मंदिर में नेपाली काले पत्थर से निर्मित नयना देवी की मूर्ति स्थापित की गई, मंदिर नेपाली, तिब्बती, पैगोडा व कुछ हद तक अंग्रेजी गौथिक व ग्वालियर शैली में बना हुआ है।

चीन, कंबोडिया व दक्षिण भारतीय शैली में बन रहा दशावतार मंदिर
नैनीताल। नगर के नयना देवी मंदिर परिसर में विशाल दशावतार मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। यह मंदिर चीन व कंबोडिया की मंदिर शैली पर निर्मित किया जा रहा है, जबकि इसमें स्थापित होने वाली ईश्वर के दश अवतारों मत्स्य, कूर्म, वराह, वामन, नृसिंह, परशुराम, राम, कृष्ण, बुद्ध व कल्की (जिन्हें कलयुग में होने वाला अवतार कहा जाता है) की मूर्तियां लगेंगी। मंदिर प्रबंधन ट्रस्ट के अनुसार मूर्तियां दक्षिण भारतीय कलाकारों द्वारा वहीं के पत्थरों से तराशकर बनाई जाएंगी। वर्तमान मंदिर की हवन शाला के छत में बन रहे इस मंदिर के भवन निर्माण हेतु फिलहाल ट्रस्ट ने 13 लाख रुपये का प्राविधान किया है, जिसके बढऩे की भी पूरी गुंजाइश रखी गई है। मंदिर का भवन चीन व कंबोडिया की शैली में बनना प्रस्तावित है। इसकी छत टिन की बनी होगी। मंदिर के निर्माण में चार-पांच वर्ष लगने की संभावना जताई जा रही है। 

शुक्रवार, 10 जून 2011

पूरी दुनिया में पहुंचेंगे कुविवि के शोध पत्र


राज्य की पहली ऑनलाइन शोध पत्रिका का विमोचन
नैनीताल (एसएनबी)। कुमाऊं विविद्यालय के यूजीसी अकादमिक स्टाफ कालेज की शोध पत्रिका ‘क्वेस्ट’ बृहस्पतिवार को ऑनलाइन हो गई। यह राज्य के किसी शिक्षण संस्थान के साथ ही देश भर के 67 अकादमिक स्टाफ कालेजों की भी पहली ऑनलाइन शोध पत्रिका बताई गई है। पत्रिका का विमोचन करते हुए कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. वीपीएस अरोड़ा ने कहा कि इस पत्रिका के माध्यम से कुमाऊं विवि के शोध पत्र पूरी दुनिया तक एक क्लिक में पहुंच पाएंगे। पत्रिका देश की प्रतिष्ठित ‘इंडियन जर्नल्स डॉट काम’ वेबसाइट पर भी उपलब्ध होगी। 
बृहस्पतिवार को कुलपति प्रो. अरोड़ा ने हरमिटेज परिसर स्थित यूजीसी अकादमिक स्टाफ कालेज में ‘क्वेस्ट’ का विमोचन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज का समय एक नहीं वरन विभिन्न विषयों के समन्वित शोधों का है। क्वेस्ट पत्रिका इस कसौटी पर भी खरी है। उम्मीद जताई कि छपी पत्रिकाओं की घटती और कंप्यूटर पर बढ़ती पठनीयता के दौर में ऑनलाइन शोध पत्रिका कुमाऊं विवि के शोध पत्रों को वि पटल पर प्रस्तुत कर अधिक प्रभाव छोड़ने में मदद करेगी। आयोजन की शुरूआत करते हुए कुमाऊं विवि के कुलसचिव डा. कमल के. पांडे ने आयोजन में आये लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि पत्रिका के जरिये शोधार्थियों को सभी विषय ऑनलाइन पढ़ने को मिलेंगे। इंडिया जर्नल्स नई दिल्ली के शांतनु ने कहा कि ‘क्वेस्ट’ उनकी वेबसाइट पर भी उपलब्ध होगी। शोध पत्रिका के संपादक व कालेज के निदेशक प्रो. बीएल साह ने बताया कि यह देश के 67 अकादमिक स्टाफ कालेजों की पहली ऑनलाइन शोध पत्रिका है। इसमें विभिन्न विषयों के 14 शोध पत्र सम्मिलित किये गये हैं। डीएसबी के निदेशक प्रो. एनएस राणा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस मौके पर प्रो. सीसी पंत, बीसी पांडे, एचएस धामी, डीएस बोनाल, एसके नेगी, डा. अजय अरोड़ा, डा. रितेश साह सहित नगर के कई बुजुर्ग नागरिक भी मौजूद थे।
कुमाऊं विवि में स्थापित होंगे तीन नये संस्थान
कुलपति प्रो. वीपीएस अरोड़ा ने की घोषणा इनोवेशन सेंटर इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी सेल व इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन खुलेंगे
नैनीताल। कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. वीपीएस अरोड़ा ने डीएसबी परिसर में तीन नये संस्थान खोलने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि परिसर में ‘इनोवेशन सेंटर’, इंटलेक्चुअल प्रोपर्टी (आईपीआर) सेल तथा इंडियन इंस्टिटय़ूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन की शाखा खोलने की घोषणा की। आईपीआर सेल की जिम्मेदारी डा. ललित तिवारी को, आईआईपीए शाखा की डा. नीता बोरा शर्मा को तथा इनोवेशन सेंटर की जिम्मेदारी डा. एलएम जोशी को देने की घोषणा की गई, अलबत्ता डा. जोशी ने जिम्मेदारी लेने पर नाखुशी जाहिर की है। कुलपति ने इसके साथ ही इंडियन जर्नल्स डॉट काम में सर्वाधिक शोध प्रकाशित कराने वाले कुमाऊं विवि के प्रो. सीसी पंत, प्रो. संतोष कुमार, पीसी पांडे, एचसी पांड व प्रज्ञा जोशी को उनकी उपलब्धि पर बधाई दी है।

मंगलवार, 7 जून 2011

बिना शिक्षकों के टॉप कर रहे ‘गुदड़ी के लाल’


अशासकीय विद्यालयों में शिक्षकों के सैकड़ों पद रिक्त
नैनीताल (एसएनबी)। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा में अशासकीय विद्यालयों के ‘गुदड़ी के लालों’ ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। इन स्कूलों में शिक्षकों, प्रधानाचायरे के वर्षो से सैकड़ों पद रिक्त हैं। शिक्षा विभाग उन्हें दोयम दज्रे का मानता है, और उनके यहां सुविधाएं देने अथवा पदों पर भर्ती की किसी को सुध नहीं है। बात इंटरमीडिएट परीक्षा टॉप करने वाले कंचन कुमार कांडपाल के भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय से ही बात शुरू करें तो यहां शिक्षकों के 14 से अधिक पद रिक्त हैं। वहीं नैनीताल जनपद के चार अशासकीय हाईस्कूलों में एलटी शिक्षकों के 11, प्रधानाध्यापक के दो तथा 19 इंटर कालेजों में शिक्षकों के 100, प्रवक्ताओं के 50, प्रधानाचायरे के सात व शिक्षणोत्तर कर्मियों के 56 पद रिक्त हैं। यही कहानी प्रदेश में अव्वल रहने वाले कुमाऊं मंडल के अन्य जिलों की भी है। अल्मोड़ा जिले के चार हाईस्कूलों में आठ शिक्षकों, दो प्रधानाध्यापकों व पांच शिक्षणोत्तर कर्मियों तथा 30 इंटर कालेजों में 165 शिक्षक, 55 प्रवक्ता, 15 प्रधानाचार्य व 59 शिक्षणोत्तर कर्मी नहीं हैं। बागेर में जहां तीन हाईस्कूलों में छह शिक्षक व चार ही शिक्षणोत्तरकर्मी, 12 इंटर कालेजों में 64 शिक्षक, छह प्रधानाचार्य व 26 शिक्षणोत्तरकर्मी तथा पिथौरागढ़ में दो हाईस्कूलों में आठ एलटी शिक्षकों, दो हेडमास्टरों व चार शिक्षणोत्तर कर्मियों की कमी है।

रविवार, 5 जून 2011

श्रीनगर के बाद देश का दूसरा ’ग्रीन‘ राजभवन बना 'नैनीताल राजभवन'


राष्ट्रपति का कार्यक्रम स्थगित होने के बाद राज्यपाल ने किया सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण
नैनीताल (एसएनबी)। विश्व पर्यावरण दिवस पर राज्यपाल मार्गरेट आल्वा ने नैनीताल राजभवन नैनीताल में ‘वर्षा जल सिंचन संरचना’ के तहत विशाल टैंक एवं सौर ऊर्जा संयंत्र का उद्घाटन किया। पहले यह कार्यक्रम राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल के हाथों संपन्न होना था। इस मौके पर राज्यपाल ने राजभवन परिसर में कदम्ब तथा राज्य वृक्ष ‘बुरांश’ के पौधों का रोपण भी किया। इस दौरान संस्कृति विभाग की ओर से ‘बीट्स ऑफ उत्तराखंड’ की मनमोहक प्रस्तुति भी दी गई। इसके साथ ही नैनीताल राजभवन श्रीनगर के बाद देश का दूसरा ‘ग्रीन राजभवन’ हो गया है। 
उल्लेखनीय है कि ‘ग्रीन नैनीताल राजभवन’ परिकल्पना के तहत नैनीताल राजभवन में परंपरागत ऊर्जा का प्रयोग समम्प्त करने की योजना है. इसी कड़ी मैं केंद्रीय वैकल्पिक ऊर्जा मंत्रालय से मिले धन से राजभवन के प्राकृतिक सौन्दर्य, पर्यावरण और हरीतिमा की निरंतरता के लिए वर्षा जल संचयन पण्राली का सुदृढ़ीकरण किया गया है। इसके तहत राजभवन गोल्फ क्लब परिसर में वर्षा जल संग्रहण हेतु बनाए गए 24 लाख लीटर के टैंक, सोलर स्ट्रीट लाइट व विंड मिल आदि कायरे का औपचारिक शुभारंभ किया गया। राज्यपाल ने कहा कि इन प्रबंधों के बाद नैनीताल राजभवन कश्मीर के बाद देश का दूसरा ‘ग्रीन राजभवन’ हो गया है। आगे राजभवन को पूरी तरह सौर ऊर्जा से रोशन किए जाने की योजना है। वर्षा जल संग्रहण के बाद राजभवन के पूरे गोल्फ कोर्स तथा राजभवन में सिंचाई के लिए नैनी झील से पानी लेने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। राज्यपाल ने बताया कि नैनीताल राजभवन में कश्मीर की तरह बगीचे विकसित करने की भी योजना है। राजभवन की दीवारों व छत आदि के सुदृढ़ीकरण के लिए सात करोड़ रुपये की डीपीआर बनाई गई है। जुलाई आखिर तक एमओयू हस्ताक्षरित कर कार्य शुरू होने की उम्मीद है। उन्होंने राजभवन के पीछे की पहाड़ी के सुदृढ़ीकरण कायरे को भी प्राथमिकता में गिनाते हुए बताया कि सोमवार की सायं साढ़े पांच बजे शहर के प्रमुख व सम्मानित लोगों के लिए आयोजित स्वल्पाहार पर आमंतण्रकार्यक्रम राष्ट्रपति का कार्यक्रम निरस्त होने के बावजूद पूर्ववत ही रहेगा।
ग्रीन प्रबंध के कायरे का ब्योरा
नैनीताल। देहरादून और नैनीताल राजभवन को ‘ग्रीन’ किए जाने के तहत नैनीताल राजभवन में पांच किलोवाट क्षमता का सोलर पावर प्लांट, 1100 लीटर प्रतिदिन पानी गर्म करने की क्षमता का इवेक्यूटेड टय़ूब आधारित सोलर वाटर हीटर संयंत्र, 1.8 किलोवाट क्षमता का सोलन फोटोवोल्टाइक पंप, राजभवन के मुख्य मार्ग में 100 सोलर रोड स्ट्ड, पथ प्रकाश व्यवस्था के लिए 20 सोलर एलईडी स्ट्रीट लाइटें तथा एक किलोवाट क्षमता की पांच विंड पावर जनरेटर तथा देहरादून राजभवन में सात व दो किलोवाट क्षमता के दो सोलर पावर प्लांट, 1400 लीटर प्रतिदिन क्षमता का सोलर वाटर हीटर संयंत्र, 1.8 किलोवाट क्षमता का सोलर फोटोवोल्टाईक पंप, 250 सोलर रोड स्ट्ड्स, दो सोलर पावर डोर फ्रेम मैटल डिटेक्टर, 2500 लीटर प्रतिदिन क्षमता का सोलर पावर वाटर प्यूरीफायर व पांच घन लीटर क्षमता का बायोगैस संयंत्र लगाऐ गये हैं।

शुक्रवार, 3 जून 2011

राष्ट्रपति परिवार सहित कल आएंगी नैनीताल


राज्यपाल ने की राष्ट्रपति के आगमन की घोषणा, 
राजभवन को किसी कार्यक्रम की जानकारी नहीं 
नैनीताल में अवकाश के मूड में होंगी राष्ट्रपति 
कुमाऊंनी क्राफ्ट मेले का आयोजन भी निरस्त
नैनीताल (एसएनबी)। आगामी पांच जून को परिजनों के साथ नैनीताल पहुंच रहीं राष्ट्रपति पूरी तरह प्रकृति की सुंदरता में खो जाना चाहेंगी। वह यहां परिवार के साथ प्रकृति के सानिघ्य में रहना चाहती हैं। नैनीताल राजभवन में अभी तक उनके किसी प्रकार के कार्यक्रम की जानकारी नहीं है। राजभवन ने उनके दर्शनार्थ आयोजित कुमाऊंनी क्राफ्ट मेला भी स्थगित कर दिया है। श्रीमती पाटिल यहां आने वाली चौथी राष्ट्रपति हो जाएंगी। नैनीताल में अब तक केवल पूर्व राष्ट्रपति वीवी गिरी, नीलम संजीव रेड्डी और ज्ञानी जैल सिंह ही अपने कार्यकाल के दौरान आए हैं। अलबत्ता वह राजभवन को ‘ग्रीन’ किए जाने के कायरे का शुभारंभ करेंगी, और उनके स्वागत में राज्यपाल द्वारा ‘पब्लिक सिटीजन रिसेप्सन’ दिया जाएगा। एक घंटे के लोक संस्कृति के कार्यक्रम भी आयोजित होंगे। शुक्रवार को राज्यपाल मार्ग्ेट आल्वा राष्ट्रपति के आगमन की औपचारिक घोषणा करते हुए नैनीताल राजभवन में प्रेस से मुखातिब हुई। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति पांच जून को दोपहर के भोजन से पूर्व नैनीताल राजभवन पहुंचेंगी और शाम छह बजे वि पर्यावरण दिवस के मौके पर राजभवन में वष्रा जल संग्रहण हेतु बनाए गए 24 लाख लीटर के टैंक, सोलर स्ट्रीट लाइट व विंड मिल का औपचारिक शुभारंभ करेंगी। उन्होंने बताया कि नैनीताल राजभवन कश्मीर के बाद देश का दूसरा ‘ग्रीन राजभवन’ हो जाएगा। राज्यपाल ने बताया कि एक वर्ष तक मुंबई के प्रिंस ऑफ वेल्स का जीर्णोद्धार करने वाली आभा नारायण लांबा की देखरेख में केंद्र सरकार की जेएनएनयूआरएम योजना के तहत 7.5 करोड़ रुपये से नैनीताल राजभवन के पुनरुद्धार कार्य होंगे। इस दौरान राजभवन बंद रहेगा।


हल्द्वानी-भीमताल मार्ग बंद रहेगा
पांच जून को आएंगी राष्ट्रपति हल्द्वानी से सड़क मार्ग से आने की संभावना
नैनीताल (एसएनबी)। आगामी पांच जून को राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल के आगमन के दौरान नैनीताल-हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग तथा भवाली-भीमताल के मार्ग बंद रहेंगे। हालांकि इसका कारण नहीं बताया गया है, पर माना जा रहा है कि ऐसा राष्ट्रपति के हल्द्वानी में उतरने और हल्द्वानी से सड़क मार्ग से नैनीताल पहुंचने की संभावना के मद्देनजर किया जा रहा है। इस दौरान हल्द्वानी व नैनीताल के बीच तथा पहाड़ से मैदान को आने-जाने वाले भवाली-भीमताल के मार्ग आवागमन के लिए बंद रहेंगे। हल्द्वानी से नैनीताल आने जाने के लिए कालाढूंगी मार्ग का प्रयोग किया जाएगा, जबकि अल्मोड़ा की ओर जाने के लिए सुबह आठ बजे से यातायात क्वारब से आगे पदमपुरी-खुटानी की ओर डायवर्ट कर दिया जाएगा। सुबह साढ़े नौ से साढ़े 11 के बीच हल्द्वानी व नैनीताल के बीच कुछ छोटी बसें चलाई जाएंगी। राष्ट्रपति के आगमन को लेकर नगर में इन दिनों विकास कायरे में अचानक तेजी आ गई है। इन दिनों यहां रात-रात भर उठकर अधिकारी मजदूरों से सड़कों की मरम्मत-डामरीकरण व माल रोड के किनारे की दीवारों की पुताई के कार्य करवा रहे हैं। हालांकि यह भी गौरतलब है कि कायरे की गुणवत्ता बेहद घटिया स्तर के नजर आ रही है। लोवर माल रोड व चिड़ियाघर रोड पर इसी सप्ताह किया गया डामरीकरण उखड़ चुका है। ‘राष्ट्रीय सहारा’ में इस बात खबर प्रमुखता से प्रकाशित हुई थी, जिसके बाद शुक्रवार को पुन: इन मागरे पर डामरीकरण करने की प्रक्रिया चल रही है। उल्लेखनीय है कि बीते वर्षो में सीजन से पूर्व नगर की सड़कों की मरम्मत तथा झील किनारे पुताई होती थी, जो इस वर्ष नहीं की गई।

बुधवार, 1 जून 2011

स्ट्रीट लाइटों से रोशन होंगे राज्य के सीमावर्ती इलाके


केंद्रीय वैकल्पिक ऊर्जा मंत्रालय से मिले 80 लाख रुपये दो माह के भीतर लगा दी जाएंगी सोलर लाइटें
नैनीताल (एसएनबी)। प्रदेश सरकार राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में एक लाख परिवारों को मुफ्त सोलर लालटेन बांटेगी। इसके अलावा सीमावर्ती इलाकों को 13 हजार सोलर स्ट्रीट लाइटों से भी रोशन किया जाएगा। राज्य सरकार को केंद्रीय वैकल्पिक ऊर्जा मंत्रालय से इस हेतु 80 लाख रुपये प्राप्त हो गए हैं। राज्य के वैकल्पिक ऊर्जा मंत्री राजेंद्र भंडारी ने बताया कि पिथौरागढ़, चंपावत, बागेश्वर, ऊधमसिंहनगर तथा चमोली सहित आधा दर्जन सीमावर्ती जिलों में अगले दो माह के भीतर सोलर लालटेन व सोलर स्ट्रीट लाइट लगा दी जाएंगी। काबीना मंत्री श्री भंडारी ने बताया कि राज्य के सीमावर्ती इलाकों से पलायन को रोकने के उद्देश्य से यह योजना केंद्र सरकार से स्वीकृत हुई है। इस मद में 80 लाख रुपये प्राप्त हो चुके हैं। लालटेनों व स्ट्रीट लाइटों की खरीद के लिए निविदा प्रक्रिया शुरू की जा रही है। इसके साथ ही राज्य में सौर ऊर्जा से चलने वाले वाटर हीटरों की खरीद पर 70 फीसद का अनुदान दिया जा रहा है। उन्होंने राज्य में 10-10 मेगावाट क्षमता के पांच सोलर प्लांट लगाए जाने की योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसे पांच-पांच मेगावाट क्षमता के पांच सोलर प्लांट हाल में लगा दिए गए हैं। साथ ही उन्होंने टिहरी गढ़वाल के बछेलीखाल में 2.4 मेगावाट क्षमता का हवा से चलने वाले प्लांट की जानकारी भी दी। इसकी सफलता के बाद राज्य में और विंड मिल लगाई जाएंगी। उन्होंने राज्य में विद्युत उत्पादन क्षमतायुक्त घराट लगाने पर 1.16 लाख व सामान्य यांत्रिक घराट बनाने के लिए 41 हजार रुपये दिए जाने की योजना की भी जानकारी दी। वैकल्पिक ऊर्जा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में अभी पिरुल आधारित कोई बड़ा प्रोजेक्ट प्रस्तावित नहीं है। उल्लेखनीय है कि हाल में उरेडा के माध्यम से अल्मोड़ा में 10 मेगावाट क्षमता का प्लांट लगने की र्चचाओं के बाद केंद्रीय ऊर्जा मंत्री फारूक अब्दुल्ला ने गत दिवस नैनीताल राजभवन प्रवास के दौरान ग्रामीण महिलाओं की सहभागिता से पिरुल से ईधन बनाने की छोटी योजनाओं को प्रोत्साहन देने के लिए बड़ी योजनाओं को हतोत्साहित करने तथा इस पर दिये जाने वाले दो फीसद अनुदान को भी समाप्त किए जाने की बात कही थी।

अब ’टूटेगी‘ अंग्रेजों के जमाने की जेल


पुन: बनेंगे जिला कारागार के आवास एक करोड़ का खर्च आने का अनुमान नैनीताल : जिला कारागार का अवलोकन करते प्रदेश के कारागार मंत्री राजेंद्र भंडारी।
नैनीताल (एसएनबी)। अंग्रेजों के जमाने की एक शताब्दी से भी अधिक पुरानी नैनीताल जेल व खासकर उसकी आवासीय बैरकों की दशा एक करोड़ रुपये से सुधरने की उम्मीद की जा सकती है। प्रदेश के कारागार मंत्री राजेंद्र भंडारी ने इसके लिए कारागार अधीक्षक से प्रस्ताव तैयार कर भेजने को कहा है। बुधवार को काबीना मंत्री राजेंद्र भंडारी ने जिला कारागार का निरीक्षण करने के बाद पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी। जेल में सफाई के अभाव व बंदियों को मेन्यू के अनुसार सब्जी न मिलने व बंदियों को स्वास्थ्य सुविधाएं न मिलने जैसी समस्याएं उनकी नजर में आई। जेलकर्मियों के आवासों की जर्जर हालत देखकर वह दंग रह गये, जिस पर उन्होंने इन्हें ध्वस्त कर नव निर्माण का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश जेल अधीक्षक संजीव शुक्ला को दिये। उन्होंने बताया कि हल्द्वानी उप कारागार के जेलर के खिलाफ डीजी-जेल भाष्करानंद जोशी जांच करेंगे। दोशी पाए जाने पर जेलर को निलंबित किया जाएगा। उन्होंने सदचरित्र कैदियों को उनकी मनमाफिक जेलों में ट्रांसफर करने व 14 वर्ष से अधिक सजा भुगत चुके कैदियों को रिहा किये जाने के प्रस्ताव अधिकारियों से मांगने की जानकारी भी दी। इस मौके पर विधायक केएस बोहरा, पशु कल्याण बोर्ड उपाध्यक्ष शांति मेहरा, हरियाणा के भाजपा संगठन मंत्री सुरेश भट्ट, सांसद प्रतिनिधि मनोज जोशी सहित अनेक पार्टी नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
सार्वजनिक करना पड़ेगा जेल मेन्युअल
नैनीताल। कारागार मंत्री ने कहा कि जेल में बंदियों व कैदियों को हर तरह की सुविधा देना सरकार का दायित्व है। जेल न्यायालय से सजायाफ्ता कैदियों व विचाराधीन बंदियों को रखने का स्थान है, न कि सजा देने का। माना कि उन्हें जेल मेन्युअल के अनुसार सुविधाएं नहीं मिल रही है। इसलिये वह जेलों में जेल मेन्युअल को सार्वजनिक तौर पर चस्पा करने के आदेश जारी कर रहे हैं।