You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

सोमवार, 28 फ़रवरी 2011

81 के बुढापे में 18 सी जवानी

नवीन जोशी, नैनीताल। जी हां ! 81 की उम्र में यदि किसी व्यक्ति में 18 की उम्र जैसी चुस्ती-फुर्ती हो सकती है। विश्वास न हो, तो आपको नगर के 81 वर्षीय पूर्व प्रधानाचार्य एवं उत्तराखंड बाक्सिंग एसोसिएशन के उपाध्यक्ष कुंदन लाल साह से मिलना होगा। साह बीते करीब 45 वर्षो से योग कर रहे हैं, और योग को ही वह अपनी इस चुस्ती-फुर्ती का कारण मानते हैं। वह आज भी रोज दिनचर्या के आवश्यक अंग के रूप में योग के कई कठिनतम् आसन करते हैं, साथ ही लोगों को सिखाते भी हैं।
इस संवाददाता ने भी जब योग की इस जीवंत किवदंती श्री साह के यौगिक आसनों का प्रदर्शन देखा, तो दंग हुए बिना नहीं रहा सका। यह कमोबेश अकल्पनीय था कि जन्म प्रमाण पत्र के अनुसार एक अप्रैल 1930 को (जबकि उनके अनुसार प्रमाण पत्रों में तिथि एक वर्ष घटाई गई थी) पैदा हुए श्री साह बज्रासन, गौमुखासन, कंचासन, विकर्ण धनुरासन, एकपाद शुप्त शीर्षासन, उत्तिष्ठ कूर्मासन, ऊंकारासन, योग दंडासन व पश्चिमोत्तानासन सरीखे बेहद कठिन आसनों का सामान्यतया शीतकाल में पहने जाने वाले अधिक वस्त्रों में भी बेहद आसानी से प्रदर्शन कर रहे थे। साह बताते हैं कि डेढ़ वर्ष की अवस्था में ही पिता उन्हें छोड़ गए थे। मां ही उनकी गुरु थीं, उन्हीं से योग सीखा। राउमावि कोटाबाग से शिक्षण शुरू किया, और बाद में प्रांतीय शिक्षा सेवा (पीईएस) परीक्षा उत्तीर्ण कर यहीं प्रधानाचार्य हो गऐ। बाद में नैनबाग-टिहरी, तथा पिथौरागढ़ के दोबांश, वर्दाखान, थल व बेरीनाग में प्रधानाचार्य रहे व वर्ष 1987-88 में सेवानिवृत्त हुए। वर्तमान में नेहरू युवा केंद्र के विधि सलाहकार व योग प्रशिक्षक संदर्भ व्यक्ति, उत्तराखंड बाक्सिंग संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष, नगर के रोलर-स्केटिंग संघ अध्यक्ष तथा हिमालय पर्यावरण संस्थान पिथौरागढ़ के संस्थापक अध्यक्ष के रूप में विभिन्न सांस्कृतिक-सामाजिक संस्थाओं व खेल संस्थाओं से जुड़े हैं। उत्तराखंड आंदोलन के दौरान भी वह सेवानिवृत्ति के बाद भी युवाओं के साथ सक्रिय रहे तथा 1990 में 10 दिन फतेहगढ़ जेल रहे। लेकिन इतनी संस्थाओं में सक्रियता का राज उनके वैयक्तिक जीवन में है, और उसकी धुरी योग के गिर्द घूमती है। साह बताते हैं, जीवन हर क्षेत्र में तीन भुजाओं का संतुलन है, यह तीन भुजाएं हैं-आचार-विचार व व्यवहार, सदाचार-संयम व अनुशासन, व्यस्त-मस्त और स्वस्थ, पति-पत्नी व बच्चे, जन्म-जीवन व मरण, पृथ्वी-आकाश व पाताल तथा शरीर की तीन व्याधियां कफ-पित्त व बात। त्रिभुज की तीन भुजाओं का संतुलन विचार-कर्म व परिणाम तथा प्राणायाम, ध्यान व आसन से संधान किऐ जाते हैं, फलस्वरूप जीवन स्वस्थ व सुंदर बनता है। लिहाजा वह त्रिपाद मंत्र योग करते-कराते हैं।

शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

बुधवार, 23 फ़रवरी 2011

कैलाश मानसरोवर यात्रा हुई आठ हजार रुपये महंगी

यात्रा मार्ग और अवधि बढ़ने के बाद विदेश मंत्रालय ने बढ़ाया केएमवीएन का खर्चा
नवीन जोशी, नैनीताल। कैलाश मानसरोवर की यात्रा के लिए इस वर्ष भक्तों को प्रत्यक्ष रूप से आठ हजार रुपये तक अधिक खर्च करने पड़ेंगे। विदेश मंत्रालय ने केएमवीएन के प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए यात्रा किराया ढाई हजार रुपये प्रति श्रद्धालु बढ़ा दिया है, जबकि बीते एक वर्ष में भारतीय रुपये के डॉलर के मुकाबले कमजोर होने से यात्रियों को चीन को करीब पांच से साढ़े पांच हजार रुपये अधिक देने होंगे। 
उल्लेखनीय है कि भारत में कैलाश मानसरोवर का यात्रा का जिम्मा संभालने वाले कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) ने विदेश मंत्रालय से यात्रा किराया बढ़ाने के लिए आवेदन किया था। निगम के मंडलीय प्रबंधक पर्यटन डीके शर्मा ने बताया कि विदेश मंत्रालय ने यात्रा किराया गत वर्ष के 24,500 से बढ़ाकर 27 हजार रुपये करने को स्वीकृति दे दी है। निगम की परेशानी यह थी कि गत वर्ष तक के यात्रा मार्ग मांगती व गाला के बीच बीआरओ द्वारा सड़क बनाई जा रही है। इस सड़क में भूस्खलन हो रहा है। इसलिए बीआरओ ने इस मार्ग पर श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मद्देनजर मांगती से गाला के बीच के मार्ग पर पैदल यात्रा कराने से मना कर दिया। इस कारण निगम को इस वर्ष यात्रा पूर्व के मार्ग से करानी पड़ रही है। इस कड़ी में सिरख में एक नया शिविर स्थापित करना पड़ रहा है, जिससे आने-जाने में पैदल यात्रा 36 किमी और यात्रा अवधि दो दिन बढ़ रही है। हां, इस कारण यात्रियों को नारायण स्वामी आश्रम देखने का अवसर मिलेगा। उल्लेखनीय है कि चीन के हिस्से में यात्रा के लिए हर यात्री को चीन सरकार को 700 डॉलर पड़ते हैं। अर्थशास्त्रियों के अनुसार बीते वर्ष में एक डॉलर की भारतीय मुद्रा में कीमत करीब सात से आठ रुपये तक बढ़ी है, इस कारण भारतीय यात्रियों को चीन में यात्रा सुविधाओं के लिए करीब पांच से साढ़े पांच हजार रुपये तक अतिक्ति अदा करने होंगे। श्री शर्मा ने बताया कि निगम ने इस बार यात्रा मार्ग के सभी छह शिविरों में दो-दो कमरे अतिरिक्त होंगे। इससे हर शिविर में 16 यानी कुल 96 अतिरिक्त शैयाओं की सुविधा होगी। वैसे पूर्व में भी निगम हर यात्रा दल में 60 यात्रियों के लिए पूरी व्यवस्था रखता रहा है, इस बार अतिरिक्त कक्ष होने से खासकर महिला यात्रियों को सुविधा मिलेंगी।
आदि कैलाश यात्रा का किराया भी बढ़ा
नैनीताल। शिव के छोटे धाम कहे जाने वाले आदि कैलाश यात्रा पर महंगाई की मार पड़ी है। यह यात्रा अब करीब चार हजार रुपये महंगी होगी। अब तक इस यात्रा का किराया 17,600 रुपये था, जबकि इस वर्ष से यात्रियों को 21 हजार रुपये प्रति यात्री के साथ ही 2.58 फीसद सर्विस टैक्स अलग से वहन करना होगा। इसके साथ ही निगम ने महंगाई के मद्देनजर पर्यटक आवासगृहों का किराया भी सीजन तक बढ़ने के संकेत दिये हैं।
यहाँ प्रथम पेज पर भी देख सकते हैं: 

रविवार, 20 फ़रवरी 2011

हवा के झोंकों से जलेंगे सरोवरनगरी के चिराग

नवीन जोशी, नैनीताल। नगर की पथ प्रकाश व्यवस्था के हर वर्ष लाखों रुपये के बिलों से परेशान नगर पालिका परिषद अब वैकल्पिक ऊर्जा के प्रबंध पर गंभीरता से विचार कर रही है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो नगर में जल्द पवन ऊर्जा से स्ट्रीट लाइट जगमगाने लगेगी। इसके लिए दक्षिण भारत की विशेषज्ञ कंपनी से प्रस्ताव मांगे गए थे, जिसने दक्षिण अफ्रीका की तकनीकी पर आधारित 16.5 किलोवाट क्षमता पवन ऊर्जा संयंत्र का करीब 70 लाख रुपये का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। योजना को राज्य सरकार के शहरी अवस्थापना निगम की 70 फीसद मदद पर लगाए जाने की योजना है। 
उल्लेखनीय है कि पर्यटन नगरी का हर वर्ष करीब एक करोड़ रुपये स्ट्रीट लाइट का बिल आता है। इससे परेशान पालिका ने विगत वर्ष प्रदेश में पहली बार तीन वर्ष के लिए पीपीपी मोड में स्ट्रीट लाइट के पोल विज्ञापन आधार पर सहभागिता के लिए निजी फर्म को देकर एक नई पहल की थी। अब यह अवधि बीतने के साथ पालिका की चिंता फिर बढ़ने लगी है। इसका निदान गत दिनों नगर के एक समाजसेवी मारुति नंदन साह व रामेश्वर साह परिवार द्वारा नगर के मां नयना देवी मंदिर में दान से लगाए जा रहे 800 वाट के पवन ऊर्जा संयंत्र में दिखाई दिया है। इस संयंत्र को लगाने वाली दक्षिण भारत की कंपनी केस्ट्रेल इंडिया से संपर्क किया गया, जिसने नगर के हाईकोर्ट तिराहे से तल्लीताल गांधी मूर्ति तक 7,950 वाट के 58, ठंडी सड़क पर 30-30 वाट के तीन बल्बों वाले 38, मल्लीताल पंप हाउस तक 150 वाट के 13 पोलों तथा नौ हाईमास्ट लाइटों पर 150 वाट के एलईडी बल्बों को हर रोज करीब 10 घंटे रोशन करने के लिए कुल जरूरी 16,495 वाट यानी लगभग 16.5 किलोवाट क्षमता का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। कंपनी के निदेशक रघु रमन ने ‘राष्ट्रीय सहारा’ को बताया कि इसके लिए नगर में करीब 10 संयंत्र लगाने पड़ेंगे, जिसमें करीब 70 लाख खर्च आएगा। संयंत्र करीब 20-22 वर्ष कार्य करेगा। नगर में संयंत्रों का प्रभाव व हवा की उपलब्धता को देखते हुए तीन चरणों में यह संयंत्र लगाने की योजना है। कोशिश रहेगी कि सौर ऊर्जा के पैनल भी साथ में जोड़ दिए जाएं, ताकि हवा न चलने पर सौर ऊर्जा का भी लाभ लिया जा सके। 
पालिकाध्यक्ष मुकेश जोशी का कहना है कि उनकी कोशिश नगर की स्ट्रीट लाइट बिलों की दीर्घ कालीन समस्या का हल करने की है। पवन ऊर्जा के साथ ही नगर पालिका विद्युत बिलों में कटौती के लिए अत्याधुनिक एलईडी तकनीकी अपनाने पर भी विचार कर रही है। परंपरागत बल्बों की जगह पूरी तरह सीएफएल तकनीकी अपना चुकी पालिका ने गत दिनों विभिन्न कंपनियों की इस तकनीकी का परीक्षण भी किया। प्रस्तावित पवन ऊर्जा संचालित योजना भी एलईडी तकनीक को ध्यान में रखकर ही तैयार की जा रही है। एलईडी तकनीक सीएफएल के मुकाबले भी पांच गुना कम बिजली खर्च कर समान रोशनी देती है।

शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

हाईकोर्ट में अधिवक्ता को मारपीट कर किया जख्मी


उत्तराखंड हाई कोर्ट के अधिवक्ताओं में मारपीट, मेडिकल उपरांत मुकदमा दर्ज
नैनीताल (एसएनबी)। उच्च न्यायालय परिसर में एक अधिवक्ता दंपति ने दूसरे अधिवक्ता से बुरी तरह मारपीट की। इससे मन मन न भरा तो उसने उसका मुंह भी नोच डाला और उसके हाथ को दांतों से काट डाला। पीड़ित अधिवक्ता उत्तराखंड उच्च न्यायालय के ओथ कमिश्नर हैं। उन्होंने रजिस्ट्रार जनरल से मामले की शिकायत की तथा नगर कोतवाली में आरोपित दंपति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़ित अधिवक्ता प्रेम प्रकाश सिंह फत्र्याल ने बताया कि वह पूर्व में आरोपित अधिवक्ता दंपत्ति मसरूर अहमद और फरीदा खान के चेंबर में ही अधिवक्ता तनवीर आलम खान के साथ बतौर कनिष्ठ अधिवक्ता कार्य करता था। साथ में वह उच्च न्यायालय से ओथ कमिश्नर भी नियुक्त था। आरोपित किसी अन्य की मुहर से यह कार्य करता था। इसकी शिकायत उन्होंने नवंबर माह में मुख्य न्यायाधीश से की। इस पर उन्हें कार्य छोड़ना पड़ा वह उससे रंजिश रखने लगा। इसी बात पर आज उससे मारपीट की गई। आगे उसे जान का खतरा है। कोतवाल बीएस धौनी ने बताया कि आरोपित दंपति के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

गुरुवार, 17 फ़रवरी 2011

बालीवुड कलाकार नाटकों से निर्मल को देंगे श्रद्धांजलि

आठ व नौ मार्च को पुन्य तिथि पर होंगे नाटक मंचित, गत वर्ष १८ फरवरी को  हुआ था पांडे का निधन
नैनीताल (एसएनबी)। दिवंगत बालीवुड-हालीवुड सिने स्टार निर्मल पांडे को नाटकों के माध्यम से श्रद्धांजलि दी जाएगी। नगर के शैले हाल में आठ मार्च से दो दिवसीय नाटकों का मंचन किया जाएगा। पांडे गत वर्ष 18 फरवरी को काल के क्रूर हाथों में समा गए थे। हिंदू पंचांग के अनुसार इस दिन फाल्गुन शुक्ल पक्ष की चतुर्थी थी, जो कि इस वर्ष आठ मार्च को है। 
स्वर्गीय निर्मल पांडे के बड़े भाई मिथिलेश पांडे ने बताया कि आठ मार्च को नगर के शैले हॉल में निर्मल के वरिष्ठ एनएसडी स्नातक सिने कलाकार आलोक चटर्जी नाटक की अनूठी एकल प्रस्तुति देंगे। इस मौके पर मुंबई से निर्मल के साथी निर्देशक अनिल दुबे सहित कई बड़े कलाकारों के भी नैनीताल आने की संभावना है। इसी दिन अल्मोड़ा की दिशा कार्यशाला द्वारा कुमाऊंनी नाटक ‘तीन का्थ’ का भी प्रदर्शन किया जाएगा। अगले दिन युवा निर्देशक रितेश सागर के हालिया प्रदर्शित नाटक ‘लहरों के राजहंस’ एवं युगमंच के एक छोटे नाटक का भी मंचन किया जाएगा। अन्य कार्यक्रम भी होंगे। निर्मल पांडे ने कुछ ही समय में कला जगत में अपनी अलग पहचान बनाई। अभिनय के मामले में उनका लोहा माना जाता था।
फिल्म संस्थान बनाने का था सपना
नैनीताल। निर्मल पाण्डेय को फिल्म ‘दायरा’ में अविस्मरणीय किरदार निभाने पर फ्रांस का सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री जैसा अनूठा पुरस्कार मिला था। यहां उनके द्वारा निर्देशित ‘जिन लाहौर नहीं वेख्या’ का मंचन आज भी उनके ही निर्देशन अनुसार होता है। ‘अंधा युग’ भी उनकी उल्लेखनीय प्रस्तुति थी। इधर बैंडिट क्वीन, इस रात की सुबह नहीं, दायरा, गॉड मदर, वन टू का फोर व ट्रेन टू पाकिस्तान सरीखी दो दर्जन से अधिक फिल्मों से स्वयं को स्थापित कर चुके निर्मल पहाड़ की ओर रुख करते हुए यहां फिल्म संस्थान बनाने की योजना बना रहे थे। बड़े भाई मिथिलेश पांडे के अनुसार उन्होंने रानीखेत में इसके लिए भूमि भी तलाश ली थी, किंतु काल के क्रूर हाथों ने उन्हें अचानक व असमय इस स्वप्न को पूरा करने से पूर्व ही छीन लिया। 

यह भी पढ़ें: http://newideass.blogspot.com/2010/02/blog-post.html

सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

प्रेमियों पर रहा शिवसैनिकों का पहरा

नैनीताल (एसएनबी)। सरोवरनगरी में शिव सैनिकों के एकांत में प्रेमालाप करने वाले प्रेमियों का विवाह कराने की चेतावनी का प्रेमियों पर जबर्दस्त असर रहा। फलस्वरूप नगर के पिकनिक स्थलों, झुरमुटों, होटल- रेस्तरां आदि में कहीं भी कड़ी पड़ताल के बावजूद युवा प्रेमालाप करते नहीं मिले। अलबत्ता बाहर से आए व नगर के विवाहित युगलों ने नगर में प्रेम के इस पर्व का जमकर लुत्फ उठाया। 
सोमवार को वेलेंटाइन डे के मौके पर शिव सैनिकों ने प्रदेश महामंत्री भूपाल सिंह कार्की के नेतृत्व में सूखाताल केव गार्डन से गुपचुप प्रेमालाप करने वालों के विरुद्ध अभियान शुरू किया। मोटरसाइकिलों पर निकले शिव सैनिकों ने लवर्स प्वाइंट, लेंड्स इंड से होते हुए तल्लीताल- हनुमानगढ़ी तक प्रेम के ‘अवांछित तत्वों’ के खिलाफ अभियान चलाया। कार्की ने बताया कि इस दौरान शालीनता से अपने साथियों के साथ मिले युगलों को परेशान नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि सेना प्रेम नहीं वरन प्रेम को पश्चिमी संस्कृति के वशीभूत मजाक समझने वालों के खिलाफ है। इधर बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने जिला सह संयोजक प्रदीप बोरा के नेतृत्व में डीएसए मैदान से रैली निकाली और तल्लीताल गांधी चौक पर वेलेंटाइन का पुतला फूंका। बोरा ने कहा कि उनका कार्यक्रम भारतीय संस्कृति को बचाने और पश्चिमी संस्कृति के विरोध में था। प्रदर्शन-पुतला दहन में मनीश साह, विजय राजन मान, आशु मान, चेतन, सुमित, दया पोखरिया, दिव्यंत साह, नीरज डालाकोटी, धीरेंद्र शर्मा, सुमित कुमार, संजय मेहरा, राम सिंह गोसांई, पूरन सनवाल आदि शामिल थे।

ठंड में चढ़ा प्यार का बुखार
नैनीताल। सोमवार को वेलेंटाइन डे के मौके पर मौसम के गियर बदलने से जहां आम जन त्रस्त था, वहीं प्रेमी युगल प्रसन्न नजर आए। नगर में हल्की बारिश व ओलावृष्टि के साथ लौटी गुलाबी ठंड में प्रेमियों ने जमकर प्रेमालाप किया। दिल्ली से आए रवि व सोनम का कहना था कि नैनीताल में मनमाफिक मौसम में उनका वेलेंटाइन डे अविस्मरणीय बन गया।

रविवार, 13 फ़रवरी 2011

दरकती जमीन पर खड़े हो रहे आफतों के महल


आपदा प्रभावित मंगावली क्षेत्र में लगातार हो रहे निर्माणों से भूस्खलन का खतरा बढ़ा

नवीन जोशी, नैनीताल। राज्य में चाहे आपदा प्रबंधन का जितना शोर हो रहा हो और मुआवजे के रूप में ही करोड़ों रुपये खर्च करने पड़े हों, लेकिन इतना साफ़ हो गया है कि न सरकार और न लोगों ने ही आपदा से जरा भी सबक लिया है। इसकी बानगी है दैवीय आपदा से सर्वाधिक प्रभावित हुआ मंगावली क्षेत्र। यहां एक ओर मकान दरक रहे हैं, वहीं वैध- अवैध निर्माण जारी हैं। पहले से हिली धरती के सीने में गड्ढों के रूप में घाव किए जा रहे हैं। प्रतिदिन टनों निर्माण सामग्री वहां उड़ेली जा रही है। 
मंगावली शेर का डांडा पहाडी पर स्थित नगर से अलग-थलग एवं दुर्गम क्षेत्र है। तीखी चढ़ाई वाले बिड़ला मार्ग से इस ओर वाहन मुश्किल से ही चढ़ पाते हैं। इसके बावजूद यहां इन दिनों बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य चल रहे हैं। यह कार्य वैध है अथवा अवैध, तात्कालिक रूप से जिम्मेदार झील विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को भी मालूम नहीं है, लेकिन जिस तरह व्यापक स्तर पर जमीन खोद कर पत्थरों के पहाड़ बनाए जा रहे हैं, उससे तथा अधिकारियों की जानकारी में मामला न होने से साफ हो जाता है कि निर्माण पर सरकारी नियंत्रण नहीं है। पूछने पर झील विकास प्राधिकरण के सचिव एचसी सेमवाल ने कहा कि निर्माणों की जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी। 
शेर का डांडा में हुआ था भूस्खलन 
बीती 18-19 सितंबर २०१० को अतिवृष्टि ने नगर के शेर का डांडा पहाड़ी में जबरदस्त हलचल मचाई थी। इसी पहाड़ी के शिखर पर स्थित बिड़ला विद्या मंदिर परिसर में गिरे बड़े बोल्डर से विद्यालय की डिस्पेंसरी व कर्मचारी आवासों को नुकसान हुआ था। इसके नीचे मंगावली में पालिकाकर्मी साजिद अली के मकान सहित कई घरों में दरारें आई थीं, जो अब भी चौड़ी होती जा रही हैं। इससे नीचे सीएमओ कार्यालय के पास स्वास्थ्य विभाग के आवास पर भी बोल्डर गिरा था तथा पहाड़ी की तलहटी में कैंट क्षेत्र में भी भारी भूस्खलन हुआ था, व भवाली मार्ग अब भी इसी कारण ध्वस्त पड़ी है। ऐसे क्षेत्र में निर्माण सवालों के घेरे में हैं।

शनिवार, 12 फ़रवरी 2011

मजाक न समझें प्रेम को, पकड़े गए तो होगी शादी!


वेलेंटाइन डे पर शिव सेना ने चेताया शादी का खर्चा भी स्वयं वहन करेंगे शिव सैनिक
नैनीताल (एसएनबी)। शिव सेना ने प्यार करने वाले जोड़ों को चेतावनी दी है कि वह वेलेंटाइन के दिन सार्वजनिक या एकांत स्थानों पर प्यार का इजहार करने से बचे। शिव सैनिकों के अनुसार वेलेंटाइन के दिन यदि कोई प्रेमी जोड़ा (कपल) एकांत में मिला, तो उनकी शादी नयना देवी मंदिर में सम्मान के साथ करा दी जाएगी। शादी से पहले बकायदा दोनों के परिजनों को सूचित किया जाएगा। विवाह का सारा खर्च शिव सेना वहन करेगी। शिव सेना ने बीते वर्षो की तरह इस वर्ष भी 14 फरवरी को ‘वेलेंटाइन डे’ के मौके पर अपना विरोध जारी रखेगी। 
शुक्रवार को शिवसेना प्रदेश महासचिव भूपाल कार्की की अध्यक्षता में हुई। बैठक में यह निर्णय लिया गया। तय हुआ कि सेना के पदाधिकारी इस दिन नगर के विभिन्न पिकनिक व पर्यटक स्थलों, जंगलों व होटल-रेस्टोरेंट आदि में छापेमारी करेंगे, तथा किसी जोड़े के एकांत में मिलने पर उनका विवाह करा दिया जाएगा। कार्की ने जिला प्रशासन से भी अपनी संस्कृति के संरक्षण के कार्य में सहयोग की अपील की है। शिव सेना उत्तराखंड में बढ़ रहे इस चलन का विरोध कर रही है। सैनिकों के मुताबिक पाश्चात्य सभ्यता के प्रचार- प्रसार का पहाड़ की संस्कृति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। वक्ताओं ने इस न सिर्फ भारतीय संस्कृति के खिलाफ करार दिया, बल्कि कहा कि यह विदेशी कंपनियों की अपने उत्पाद बेचने का प्रपंच है। शिव सेना ने विशेषकर युवा वर्ग से अपील की कि वह पाश्चात्य सभ्यता की नकल करने से बचें। शिव सैनिकों ने अभिभावकों से भी अपील की है कि वह अपने बच्चों पर नजर रखें ताकि वह किसी गलत राह पर न चलें। बैठक में नगर प्रमुख देवेश कुमार, प्रकाश चंद्र, किशन कुमार, मनीश कुमार, जीतू सिलेलान, राहुल ब्यास, संजय सिलेलान, गुड्डू बिष्ट, सागर श्रीवास्तव, विक्की बिष्ट, मनीश, दीपक, कुलदीप, प्रेम, भुवन, बसंत, महेंद्र, राजेंद्र, पवन, महेश, सुनील, भरत, प्रदीप, दिनेश, मनोज, अंकित, जयंत, अजय व सुरेंद्र सिंह आदि शिव सैनिक मौजूद थे।


मूलतः यहाँ देखें, प्रथम पृष्ठ पर: 
http://rashtriyasahara.samaylive.com/epapermain.aspx?queryed=14&eddate=02/13/2011

शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

उत्तराखंड में सस्ते अनाज की योजना शुरू


राजधानी में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने किया अटल खाद्यान्न योजना का शुभारंभ
नैनीताल में डा. निशंक ने बांटा बीपीएल को खाद्यान्न भाजपा सरकार की अगुवाई में राज्य विकास के पथ पर अग्रसर : गडकरी
देहरादून (एसएनबी)। प्रदेश सरकार ने आज राज्य में बहुप्रतीक्षित अटल खाद्यान्न योजना का शुभारंभ कर दिया। देहरादून में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने योजना का आगाज किया। इस मौके पर श्री गडकरी ने कहा कि गरीबों को सस्ता अनाज वितरित करने का निर्णय मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति से संभव हो सका है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड ने खुद को विकास की दौड़ में स्थापित किया है। भाजपा सरकार की अगुवाई में राज्य की आर्थिक विकास की दर और प्रति व्यक्ति आय बढ़ती जा रही है। बाद में मुख्यमंत्री ने अलग से नैनीताल में खाद्यान्न योजना का शुभारंभ किया। गांधी पार्क में आयोजित समारोह में बतौर मुख्य अतिथि श्री गडकरी ने कहा कि राजकाज चलाने के लिए गरीबों के लिए संवेदनशीलता जरूरी है। उन्होंने इस योजना की प्रशंसा करते हुए राज्य में छत्तीसगढ़ सरीखी सार्वजनिक वितरण पण्राली का अनुसरण करने की सलाह दी। मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि बीपीएल श्रेणी के लोगों को दो रुपये किलो गेहूं और तीन रुपये किलो चावल देकर राज्य सरकार ने अंत्योदय के सपने को साकार किया है। पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चन्द्र खंडूड़ी ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में गरीब व्यक्ति को सस्ता राशन देने की पहल हुई थी। 
पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी ने कहा कि इस योजना को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार भी पूरा सहयोग देगी। खाद्य मंत्री दिवाकर भट्ट ने कहा कि योजना के लिए सभी जनपदों में तैयारी की गई है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल ने कहा कि भाजपा सरकार ने अपनी घोषणा को अमलीजामा पहना दिया है। समारोह में विकासनगर की मजीदन, सहसपुर की लक्ष्मी देवी, रायपुर की मंजू देवी को राशन के बैग बांटे गए। इसके अलावा अटल आवास योजना के तहत देहरादून के कुछ लाभार्थियों को प्रथम किस्त भेंट की। समारोह में मेयर विनोद चमोली, विधायक गणोश जोशी, राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष मनोहरकांत ध्यानी, मीडिया सलाहकार समिति के अध्यक्ष देवेन्द्र भसीन, उपाध्यक्ष अजेंद्र अजय, आवास विकास सलाहकार परिषद के अध्यक्ष नरेश बंसल, उपाध्यक्ष युवा कल्याण सुभाष बड़थ्वाल सहित कई कार्यकर्ता व जनप्रतिनिधि मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन डा. देवेंद्र भसीन ने किया।
नैनीताल। मुख्यमंत्री डा. निशंक ने डीएसए फ्लैट मैदान में बीपीएल और एपीएल श्रेणी के लोगों को सस्ता राशन भेंट कर अटल खाद्यान्न योजना का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि बीपीएल को सस्ता राशन उपलब्ध कराने में उत्तराखंड देश का चौथा एवं एपीएल को भी ऐसी सुविधा देने वाला पहला राज्य बन गया है। उन्होंने केंद्र पर सौतेले बर्ताव का आरोप लगाया। इससे पूर्व डा. निशंक ने पार्टी अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल तथा काबीना मंत्री गोविंद सिंह बिष्ट के साथ दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। श्री चुफाल ने कहा कि इस योजना का 11 लाख एपीएल श्रेणी के उपभोक्ताओं को भी लाभ मिलेगा। शिक्षा मंत्री बिष्ट ने कहा कि राज्य सरकार इस योजना से हर व्यक्ति को भोजन की गारंटी ले रही है। इस मौके पर संसदीय सचिव दीवान सिंह बिष्ट, भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष ममता पलड़िया, पालिकाध्यक्ष मुकेश जोशी, पशु कल्याण बोर्ड की उपाध्यक्ष शांति मेहरा, हेमंत द्विवेदी, गजराज बिष्ट, अजय राजौर, हेम आर्या, ऋतु डालाकोटी, राजकुमारी गिरि, सलीम दुर्रानी, डा. देवी दत्त दानी, नवीन दुम्का और डा.मोहन बिष्ट ने अपने विचार रखे। संचालन अनिल डब्बू व हेमंत बिष्ट ने किया। कार्यक्रम में मंडलायुक्त कुणाल शर्मा, आईजी राम सिंह मीणा, डीएम शैलेश बगौली, एसएसपी एमएस बनंग्याल, सीओ अरुणा भारती, सीडीओ दीपक रावत व डीएसओ राहुल शर्मा सहित सभी विभागों के जिलास्तरीय अधिकारी भी मौजूद थे।

कैलाश मानसरोवर यात्रा: इस बार कड़ी परीक्षा लेंगे भोले बाबा


शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

बीए-बीकॉम का पुनरुद्धार करेगा कुमाऊं विश्वविद्यालय



तिब्बतियों ने कहा, जमीन खरीदना हमारा हक

धर्मशाला व दून में भी खरीदी जमीन

देश के कानून के अंतर्गत ही सब कुछ करने की बात कही
नैनीताल (एसएनबी)। करमापा मामले के बाद मीडिया के एक वर्ग में आ रही लगातार नकारात्मक खबरों से आहत तिब्बतियों के सब्र का बांध शनिवार को टूट गया। नगर के तिब्बती शरणार्थियों ने पत्रकार वार्ता आयोजित कर स्वीकारा कि उन्होंने जमीनें खरीदी हैं, राशन कार्ड बनवाए हैं, यहां तक कि धर्मशाला व देहरादून नगरों में राशन की दुकानें व गैस एजेंसियां भी हासिल की हैं। पर जो भी किया है, देश के कानून के अंतर्गत किया है। तिब्बतियों ने देशवासियों से अपील की कि उन पर बीते 52 वर्षो की तरह ही विास करें। 
तिब्बती बौद्ध मठ सुख निवास में आयोजित पत्रकार वार्ता में तिब्बती शरणार्थी फाउंडेशन के अध्यक्ष पेमा गेकिल शिथर ने गृह मंत्रालय के पुनर्वास विभाग के चार सितंबर 1992 के पत्र और भारतीय रिजर्व बैंक के छह जुलाई 2005 के पत्र का हवाला देकर बताया कि भारत में पंजीकृत तिब्बती यदि चाहें तो भारत में अचल संपत्ति खरीद सकते हैं। उन्होंने दिसंबर 2010 के दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्णय को उद्धृत करते हुए दोहराया कि 26 जनवरी 1950 से नागरिकता संशोधन अधिनियम के प्रभावी होने की तिथि के बीच पैदा हुए तिब्बती शरणार्थी स्वत: भारत के नागरिक हैं और भारत का पासपोर्ट रखने के अधिकारी हैं। साथ ही उन्होंने खुलासा किया कि नैनीताल में 1959 से 71 के बीच करीब 15 और बाद में टूटू सेना से सेवानिवृत्त होकर कुछ परिवार आए। वर्तमान में करीब 50 परिवारों के 325 तिब्बती शरणार्थी हैं, जिनमें से सभी के पास राशन कार्ड हैं। 95 फीसद अब भी किराए के मकान में रहते हैं, जबकि करीब आधा दर्जन लोगों ने यहां जमीनें खरीदी हैं। इस मौके पर तिब्बती संघर्ष संगठन के अध्यक्ष नीमा समकर, तिब्बती यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष तेनजिंग लुंडुप व तिब्बती महिला संगठन की अध्यक्ष सांग्मो के साथ ही येशी थुप्तेन, तेंजिंग जिंग्मो आदि भी मौजूद थे।

शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2011

तिब्बती शरणार्थियों को लेकर पसोपे


नैनीताल (एसएनबी)। करमापा मामले की प्रतिक्रिया में सरोवरनगरी में प्रशासन से तिब्बती शरणार्थियों के बाबत पूछी गई जानकारी और नगर पालिका में सूचना अधिकार के तहत उनके भूमि खरीदने संबंधी मामलों की जांच अभी बेहद प्रारंभिक चरण में है। प्रशासन मामले को लेकर पशोपेश में है। इससे इतर नगर में रहने वाले तिब्बती शरणार्थी आरोपों से निश्ंिचत नजर आ रहे हैं। 
उल्लेखनीय है कि नगर में 44 परिवारों के पास वर्षो से अस्थाई राशन कार्ड मौजूद हैं, जिन्हें हर वर्ष नवीनीकृत करना होता है। यह कार्ड शुरू में कैसे बने, इस बाबत विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों को भी कोई जानकारी नहीं है। दूसरे कहा जा रहा है कि राशन कार्ड नागरिकता का नहीं वरन स्थाई रूप से रहने का प्रमाण पत्र होता है। नगर में आधा दर्जन से अधिक नेपाली नागरिकों के भी राशन कार्ड पूर्व से ही बने हुए हैं। दूसरी ओर पालिका के अधिकारियों का कहना है कि भूमि की खरीद-फरोख्त में शासन से निर्धारित स्टांप शुल्क व औपचारिक दस्तावेज देने वालों की रजिस्ट्री की जाती है। भूमिधरों की नागरिकता पर पालिका कोई जवाब नहीं दे सकती। वहीं तिब्बती शरणार्थी संगठन के अध्यक्ष पेमा गेकिल शिथर का कहना है कि राजधानी देहरादून में तो उनके समुदाय के क्षेत्रों में राशन की दुकानें व गैस की एजेंसियां भी उनके ही समुदाय के लोगों की हैं। तिब्बती युवा कांग्रेस के पूर्व सचिव येशी थुप्तेन व वर्तमान पीआरओ तेंजिंग जिंग्मो का कानूनी प्राविधानों का हवाला देते हुए कहना है कि आरोप् विरोधियों की साजिश हो सकते हैं। पूर्व में भी जांच हो चुकी हैं। कहीं कुछ भी गलत नहीं है। सरकार ने ही उन्हें दुकानें व भूमि आवंटित की है।
क्या है प्रावधान
नैनीताल। देश में 28 नवम्बर 1986 को प्रस्तावित किये गए नागरिकता संशोधन अधिनियम 1986 के अनुसार देश के संविधान के लागू होने की तिथि यानी 26 जनवरी 1950 से इस अधिनियम के लागू होने की तिथि एक जुलाई 1987 के बीच भारत में पैदा हुए तिब्बती शरणार्थी स्वत: ही देश के नागरिक हैं। इसके साथ ही इस अवधि में पैदा हुए माता-पिता की संतानें भी स्वत: देश की नागरिक होती हैं। इस अवधि से पूर्व व बाद में पैदा हुए हुए लोग देश के नागरिक नहीं हो सकते।



फखत इतनी तमन्ना थी कि हिंद मेरा आजाद रहे

धर्म के कंधों पर आजादी का सेनानी विदा
नैनीताल (एसएनबी)। आजादी के दीवानों ने सर्व धर्म समभाव का जो स्वप्न संजोते हुए देश आजाद कराया था, वह स्वप्न आज स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बांके लाल कंसल की अंतिम यात्रा में सच होता दिखाई दिया। सर्वधर्म के लोगों के कंधों पर तिरंगा ओढ़कर आजादी के इस दीवाने की अंतिम यात्रा शान से निकली। आखिर पाइंस स्थित श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ आर्य समाज की विधि से हुआ। इससे पूर्व जिसे भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कंसल के निधन की खबर मिली, उनके आवास की ओर चल पड़ा। फलस्वरूप आवास पर मेला सा लग गया। 
कुमाऊं आयुक्त कुणाल शर्मा भी आवास पर पहुंचे। यहां से उनकी अंतिम यात्रा तिरंगे में लिपटकर पाइंस स्थित श्मशान घाट के लिए चली, जिसमें विधायक खड़क सिंह बोहरा, नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी, पूर्व विधायक नारायण सिंह जंतवाल सहित नगर के गणमान्य लोग मौजूद रहे। पाइंस में एडीएम ललित मोहन रयाल ने प्रशासन एवं विधायक खड़क सिंह बोहरा ने मुख्यमंत्री की ओर से उनके शव पर पुष्पचक्र चढ़ाए। पुलिस के जवानों ने मातमी धुन बजाई व सम्मान में शस्त्र झुकाए। उनका अंतिम संस्कार आर्य समाज विधि के साथ किया गया। पुत्र सुबोध एवं अशोक कंसल ने मुखाग्नि दी। 99 वर्षीय स्वर्गीय कंसल अस्वस्थ थे। 
सरला बहन व डा. हिंगोरानी को की मदद : 
स्वर्गीय कंसल मनसा-वाचा-कर्मणा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। कहते हैं कि 1941 में गांधी जी की विदेशी शिष्या सरला बहन के लिए तत्कालीन कमिश्नर एक्टन ने देखते ही गोली मारने के आदेश दिए थे। कंसल ने उन्हें अपने घर में छुपाकर बचाया था। इसी तरह गांधी जी के सहयोगी डा. हिंगोरानी भी उनके घर में रहे थे।


बुधवार, 2 फ़रवरी 2011

जर्जर व्यवस्था पर सपनों का महल !

विभागीय दफ्तर ध्वस्त होने के कगार पर, गोदामों में चौकीदार-पल्लेदार तक नहीं, निरीक्षकों के पद भी खाली, जिलापूर्ति अधिकारी हैं पैदल
नवीन जोशी नैनीताल। प्रदेश की मौजूदा भाजपा सरकार जिस सस्ता राशन योजना के बल पर सत्ता में लौटने का ख्वाब देख रही है, उसका भविष्य देखना हो तो जनपद व मंडल मुख्यालय स्थित विभागीय कार्यालय को देख लीजिए। और यदि इस पर भी विास न हो तो फिर व्यवस्था की धुरी माने जाने वाले कर्मचारियों की स्थिति देख लें। यहां लिपिक और पूर्ति निरीक्षक की बात तो छोड़िए, योजना के लिए अनाज गोदामों में किसके भरोसे रखा जाए, यह भी एक बड़ी समस्या है। गोदामों में न चौकीदार हैं, न ही पल्लेदार, वहीं जिलापूर्ति अधिकारी स्वयं भी बिना वाहन के पैदल ही जिले की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। 
उल्लेखनीय है कि मुख्यालय स्थित जिलापूर्ति कार्यालय अंग्रेजों के समय बने किराए के भवन में चल रहा है। यह भवन ईटन नाम के अंग्रेज साहब का था, इसलिए इसे ईटन हाउस कहा जाता है। किराया मात्र 1600 रुपये वाषिर्क। लिहाजा किराया कम होने के कारण वर्तमान मकान मालिक भवन खाली कराना चाहते हैं और मामला हाईकोर्ट में है, इसलिए भवन की मरम्मत भी नहीं हो पाई है। दूसरी ओर विभाग के पास जिले में पांच गोदाम ओखलकांडा, सरना, मेहरागांव, बेतालघाट व कोटाबाग में हैं। एक गोदाम मझेड़ा में भी स्वीकृत हो गया है। गोदामों में खाद्यान्न की देखभाल के लिए एक वरिष्ठ पूर्ति निरीक्षक के साथ ही एक- एक चौकीदार व पल्लेदार के पद स्वीकृत हैं, लेकिन विभाग में एक भी पल्लेदार-चौकीदार नहीं है। ऐसे में मुख्यालय में कार्यरत तीन लिपिक वर्गीयकर्मियों को वहां भेजना पड़ा है। विभाग में एकमात्र क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी के साथ ही पांच वरिष्ठ पूर्ति निरीक्षकों के पद भी रिक्त हैं, जबकि जिले में तहसीलें बढ़ने से तीन और की जरूरत बताई जा रही है। लिपिक भी गोदामों में भेजने से यहां भी काम अटक जाता है। वहीं इससे भी अधिक चौकाने वाली बात यह कि जिले के पूर्ति अधिकारी स्वयं पैदल हैं। गत दिनों तक वह मत्स्य विभाग की गाड़ी से काम चला रहे थे। अब वह गाड़ी भी हाथ से जा चुकी है। ऐसे में कहा जा सकता है कि जिस सस्ता राशन योजना को सरकार ‘मिशन 2012’ की ‘नैय्या पार लगाने का तिनका’ मान रही है, वह स्वयं ही डूबने की कगार पर है। इस बाबत पूछे जाने पर जिला पूर्ति अधिकारी राहुल शर्मा ने जल्द व्यवस्थाओं में सुधार की उम्मीद जताई है।
(फोटो पर डबल क्लिक करके समाचार पत्र के स्वरुप में अन्यथा अनुवाद कर दुनियां की अन्य भाषाओं में भी पढ़ सकते हैं)

मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

टल गई अन्न की ’अटल‘ योजना


सस्ता राशन योजना: विक्रेता न बिगाड़ दें कहीं खेल
विक्रेताओं को है लाभ की बजाय हानि का अंदेशा
(कहा जा रहा है कि अब यह योजना 11 फरवरी को भाजपा संस्थापक पंडित दीन दयाल उपाध्याय की पुन्य तिथि से लागू होगी)
नैनीताल। भाजपा सरकार ने ‘मिशन 2012’ के मद्देनजर तैयार की सस्ता राशन योजना पर पहला ब्रेक स्वयं ही लगा दिया है। अब यह योजना एक की बजाय 11 फरवरी से शुरू किए जाने की कवायद की जा रही है। मगर लगता नहीं है कि यह योजना परवान चढ़ पाएगी। कारण एक नहीं कई हैं। मसलन कांग्रेस ने राजनीतिक तरकश से सरकार की मंशा पर पानी फेरने के लिए तीर निकाल लिया है। हरिद्वार में पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी होने का हवाला देते हुए कांग्रेसी दिग्गज चुनाव आयोग की ओर आस भरी नजरों से देख रहे हैं। इतना ही नहीं सरकारी राशन विक्रेताओं में भी इस योजना को लेकर कोई उत्साह नजर नहीं आ रहा है। 
राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार विपक्ष खासकर कांग्रेस पार्टी को भाजपा सरकार की सस्ता राशन योजना अपने ‘मिशन 2012’ की राह में सबसे बड़ा रोड़ा नजर आ रही है। इसीलिए हरिद्वार पंचायत चुनाव का शिगूफा छेड़ा गया। इससे इतर सस्ता गल्ला विक्रेता, जिन पर योजना के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी है योजना से बेहद नाराज हैं। वह अपना विरोध जता भी चुके हैं। कारण यह है कि अब तक उन्हें राशन को गोदाम से लाने के खचरे, छीजन (सामान्य तौर पर राशन के बोरों में मिलने वाली कम मात्रा) आदि के खचरे की प्रतिपूर्ति डीएम द्वारा निर्धारित दरों से हो जाती थी। उदाहरणार्थ बीपीएल उपभोक्ताओं को नैनीताल जनपद में गेहूं की दर 4.65 तथा दूरस्थ क्षेत्रों में पांच रुपये तक में मिलते थे। बावजूद इसके राशन विक्रेता खुश नहीं थे। नई आ रही सस्ता राशन योजना में विक्रेता को चार रुपये की दर से ही गोदाम से खाद्यान्न उठाना है, और इसी दर पर देहरादून से लेकर दूरस्थ मुन्स्यारी में भी बेचना है जबकि विक्रेताओं के लिए गोदाम से खाद्यान्न की ढुलाई का खर्च अलग- अलग होगा। यानी विक्रेता को नई योजना से लाभांश, कमीशन, भाड़ा व छीजन आदि स्वयं ही वहन करना पड़ेगा। ऐसे में विक्रेताओं का नाराज होना भी लाजिमी है। उल्लेखनीय है कि गांवों में सस्ता गल्ला विक्रेताओं का अच्छा सम्मान होता है, ऐसे में संभावना बनती है कि वह आम जनमानस में सरकार की छवि को धूमिल कर सकते हैं। 
कुल 26,073 उपभोक्ता निराश 
सरकार की सस्ता राशन योजना से जिले के 26,073 बीपीएल एवं 11,372 अंत्योदय उपभोक्ताओं को लाभ मिलना था। बीपीएल को अब तक 4.65 रुपये की दर से गेहूं और 6.26 रुपये की दर से चावल जबकि अंत्योदय श्रेणी उपभोक्ताओं को दो व तीन रुपये की दर से ही गेहूं-चावल मिलता था। आगे बीपीएल और अंत्योदय दोनों श्रेणी के उपभोक्ताओं को आज से दो व तीन रुपये प्रति किग्रा की दर से गेहूं-चावल मिलना था। यानी योजना के बाद बीपीएल व अंत्योदय एक हो जाने थे लेकिन योजना फिलहाल 11 दिन खिसकने से उपभोक्ता मायूस हैं। बहरहाल, जिला आपूर्ति अधिकारी राहुल शर्मा ने बताया कि दुकानों पर राशन उपलब्ध करा दिया गया है। एपीएल को कोई उम्मीद नहीं एपीएल उपभोक्ताओं को सरकार की सस्ता गल्ला योजना से कोई उम्मीद नहीं दिखाई दे रही। 
एपीएल को कोई आश नहीं 
सरकार की घोषणा के अनुसार नैनीताल जनपद में एपीएल श्रेणी के करीब दो लाख उपभोक्ताओं को चार रुपये प्रति किग्रा की दर से पूर्व की तरह 20 किग्रागेहूं (पूर्व दर 6.60) एवं छह रुपये की दर से 15 किग्राचावल (पूर्व दर 8.65) मिलना था लेकिन हालात यह हैं कि जिले को एपीएल के लिए हर माह 3,983.78 मीट्रिक टन गेहूं की जरूरत के सापेक्ष केवल 2,279.50 एमटी एवं 2,967.83 एमटी चावल के सापेक्ष केवल 440 एमटी चावल ही मिल पा रहा है। ऐसे में केवल पहाड़ी क्षेत्रों में बेहद सीमित लोगों को ही अनाज मिल पा रहा है। 
(फोटो पर डबल क्लिक करके समाचार पत्र के स्वरुप में अन्यथा अनुवाद कर दुनियां की अन्य भाषाओं में भी पढ़ सकते हैं)